Thursday, August 19, 2021

The Secret of Kaaba

 


Alfred Wegener was a German scientist who presented a theory in 1915 for the first time that all the continents are sliding from their place with time. And millions of years ago, all these continents were presented as a single landmass, joint together. And this supercontinent was surrounded by the great ocean. This result was drawn by Wegener by studying the maps of the continents. He said that when the edges of different continents are joined together, they fit as if someone pulled them apart. So it is possible that they may have joint each other millions of years ago and later drifted apart. His theory of continent drift was new to the world and most of the scientists did not accept his point, but when data analysis was done further through new techniques in 1950, his words proved to be true. This merged supercontinent was named as Pangea. Later it was also speculated that Pangea was also formed by the union of some earlier continents. Their names were given Gondwana and Euremerica. In this way, the formation and deformation of new from old continents is a cyclic process.

 

But the most important thing that is found in the shifting of the continents is that the age of the Earth has been estimated at about 4-5 billion years. The upper crust of the Earth on which the living beings lying and on which the sea and dry places are present, this entire crust is in the form of plates (called tectonic plates). Different plates are constantly moving. Because of their shifting, continents are shifting. And when these continents presented in the form of single supercontinent, there was a centre of that entire dry land. That was the same place where today is the Kaaba Sharif and Mecca Mukarrama.

 

In such a situation, we can remember some very old hadiths of Islam, which seem to narrate this fact, for which the science before the twentieth century was in the dark.

According to the Hadith recorded in the book ‘ElalushSharaa’ of Sheikh Sudduk (A.R.), Hazrat Imam Hasan bin Ali bin Abi Talib narrates that once a few Jewish Messengers came to met Prophet Muhammad (S.A.) and asked many questions. One of them was that why was the name of Kaaba named Kaaba? Rasool (S.A.) answered because it is the markaz (centre) of the world.

 

According to another hadith recorded in the same book, Imam Muhammad Baqir (A.S.) said that Allah Ta'ala created the Kaabah before living creatures. After this God created the land and laid the ground from under the Kaaba.

According to Usool-e-Kafi vol 124 Hadith 17, Imam Muhammad Baqir (A.S.) narrates that the Messenger of Allah (s.a.) said to me that the twelve Imams to my descendants and you, Ali, all these are pegs and mountains for this land so that the land with its inhabitants lying in the stable state. When the twelfth from my descendants will no more, then the land will sink down with all the inhabitants then they will not get breather.

These hadiths are presenting such amazing inquisitions, whose reality can be understood only by the current science. The Kaaba is the centre of the world in many ways. The special thing that is observed in the map of the super continent Pangea millions of years ago is that Mecca i.e. Kaaba is seen in its center. At the same time, scientists have estimated that after about two hundred billion years, all the continents will be united once again. They also prepared a predicted map of it. And the surprising thing is that in that map once again the Kaaba (Mecca) is visible in the center. In this way it is almost proved that every time the land is united or separated, its centre has always remained the Kaaba. The same thing comes out in the research of Dr. Saleh Muhammad, a geologist at Baghdad University. According to Dr. Saleh, the tectonic plates of land on which the oceans and continents are present, are constantly changing their places at a very slow rate. At the same time, their shape is also changing. Some of them keep on joining together and some break and make new plates. Sometimes their speed becomes erratic, as a result of which floods and tsunamis arise. Now it is a scientific fact that all the deteriorating plates are moving around a centre i.e. Arabian plate at a sluggish speed i.e. doing Tawaaf. And the centre of this Arabian plate is Kaaba.

 

If a circle is drawn, including the old civilizations that were arose in the world, which includes Mesopotamia, Indus Valley, Roman and African civilizations, then its centre tends towards Mecca Mukarrama and Kaaba. All the old civilizations developed within a radius of 8000 km from this center.

 

If the radius of 13000 km is drawn considering the Kabe as the center, then the cities of America, Australia and all the continents are included in it.

A question that remains a puzzle for scientists is that from where did the formation of these continents begin? Some might say that these great lands may have always existed. But it's not like that. According to the research done by the scientists, long ago the earth was a ball of fire which was revolving around the sun. Then how did it change into the shape of today's earth, of which 71 percent is the water? Where did so much water come from on the Earth? it is an unsolved puzzle for the scientists.

According to some scientists, water was always present in the form of steam at the Earth. Whereas according to some, this water came on the earth due to the collision of the icy comet. This water cooled the whole earth and also spread everywhere in the form of ocean through heavy rain. At that time there was no existence of dry land and no continent was present. Then through a process called mantle convection, high cores were formed in the middle of the ocean, around which continents were formed due to the gradual solidification of rocks.

Science is currently silent about which part of the land the first core was formed. But the way that the Earth's plates are present around the Arabian Plates and other scientific data is being analysed, it seems that the first core was formed at the same place where the Kaaba is present now. Therefore, the scientific data is in favour of the hadith that ' After this God created the land and laid the ground from under the Kaaba '

 

The way that different plates of the Earth exist and connected to each other and the material of the earth underneath them is in molten and hot condition, it is certainly surprising that those plates are stable and is completely supporting the hadith of Rasool (S.A.) 'the twelve Imams to my descendants and you, Ali, all these are pegs and mountains for this land so that the land with its inhabitants lying in the stable state. When the twelfth from my descendants will no more, then the land will sink down with all the inhabitants then they will not get breather.' Another thing is evident from this that ultimately time will arrive when the plates of the earth will not remain in its place and will sink and the continents will collapse they will not exist further.

And finally a special thing about Kaaba. The south pole of the Earth's magnetic field is currently in the direction of Canada. In this way the equatorial line of the magnetic field passes through Mecca i.e. Kaaba. The vertical component of the magnetic field is zero everywhere on this line. In this way we can say that Kaaba is lying in the middle of the magnetic field. Definitely, the Kaabe has played such an important role in relation to the affairs of the land inhabitants that performing tawaaf around it is a great worship.

Friday, May 28, 2021

इमाम जाफर सादिक़ (अ.स.) और कायनात की इंटेलिजेंट डिज़ाईन 

 दुनिया के बनने के सिलसिले में पूरी दुनिया के लोग जिन थ्योरीज़ को पेश करते हैं उन्हें दो कैटेगरीज़ में रखा जा सकता है।  पहली है इवोल्यूशन और दूसरी है इंटेलिजेंट डिज़ाईन। पहली थ्योरी क्रियेटर के अस्तित्व से इंकार करती है और दूसरी क्रियेटर को लाज़मी मानती है।  इंटेलीजेंट डिज़ाईन के बारे में चौदह सौ साल पहले एक वैज्ञानिक ने मज़बूत दलीलें पेश की थीं जो तौहीद मुफ़ज़्ज़ल के नाम से मशहूर है. ये महान वैज्ञानिक थे  इमाम जाफर सादिक़ (अ.स.) जिन्होंने अरब की पहली यूनिवर्सिटी क़ायम की थी और चार हज़ार शागिर्दों को अपने ज्ञान से सैराब किया।


तौहीद मुफज़्ज़ल यूनिवर्स की इण्टेलिजेंट डिज़ाईन की बात करती है और तमाम दलीलों के ज़रिये साबित करती है कि सब कुछ सिस्टेमैटिक है और इसलिए इसे बनाने वाली एक सुपरपावर मौजूद है।
इस किताब में होंठों के बारे में इमाम फरमाते हैं,
‘होंठों के ज़रिये से इंसान पानी को चूस सकता है ताकि जो पानी पेट के अन्दर जाये वह बाअन्दाजा मुअय्यन (एक खास अन्दाज़े के साथ) और बिल क़स्द (जितनी ज़रूरत है) जाये न कि ग़रग़राता हुआ बह जाये, जिससे पीने वाले के गले में फंदा न लगे और जोर से बह कर जाने के सबब से किसी अन्दरूनी हिस्से में खराश न पड़ जाये। फिर अलावा इसके ये दोनों होंठ दरवाज़े के मुशाबिह हैं जो मुंह को ढांके रहते हैं जब आदमी चाहे बन्द करे।’’
 कानों के बारे में इमाम फरमाते हैं , कान का भीतरी हिस्सा कैदखाने की तरह क्यों टेढ़ा मेढ़ा बनाया गया है? इसीलिये न कि उसमें आवाज़ जारी हो सके और उस पर्दे तक पहुंच जाये जिससे आवाज़ सुनाई देती है और इसलिए कि हवा की तेज़ी का ज़ोर टूट जाये ताकि सुनने के पर्दे में खराश न डाले।’ यानि कानों की भीतरी बनावट टेढ़ी मेढ़ी होने के पीछे खास राज़ है, वह यह कि हवा का दबाव कान के पर्दे पर न पड़े और खालिस आवाज़ ही कान के पर्दे तक पहुंचे क्योंकि यह पर्दा बहुत नाज़ुक होता है और हवा का सीधा असर इसको चोट पहुंचा सकता है।

किताब एललुश-शराये में दर्ज हदीस के मुताबिक इमाम जाफर सादिक अलैहिस्सलाम ने आँखों में नमकीनी, कानों में तल्खी, नाक में तरी और मुंह में शीरनी की वजह बताते हुए फरमाया कि अल्लाह तआला ने बनी आदम की दोनों आँखों को दो चरबी के टुकड़ों से बनाया और उनमें नमकीनियत रख दी। अगर ऐसा न होता तो वह पिघल कर बह जातीं। और अगर उनमें कोई धूल का ज़र्रा पड़ जाता तो बहुत तकलीफ देता। आँखों में कोई ज़र्रा या तिनका पड़ जाता है तो नमकीनी उसको निकाल कर फेंक देती है। और कानों में जो तल्खी रखी है वह दिमाग के लिये एक परदा है। कान में अगर कोई कीड़ा मकोड़ा पड़ जाये तो वह फौरन उसमें से निकल भागने की कोशिश करता है। अगर ये तल्खी न हो तो वह दिमाग तक पहुंच जाये। और नाक में तरी को भी दिमाग की हिफाज़त के लिये रखा। अगर इसमें तरी न हो तो दिमाग गर्मी से पिघल कर बह जाये। और साथ ही ये तरी दिमाग से हर फासिद माददे को बाहर कर देती है। और मुंह में शीरनी रखी ये बनी आदम पर अल्लाह का एहसान है ताकि वह खाने पीने की लज्ज़त हासिल कर सके।

इस तरह हम देखते हैं कि कानों में मौजूद माद्दा जो आम आदमी की नज़र में गंदगी से ज्यादा कुछ नहीं दरअसल बहुत ही अहम है और कानों की हिफाज़त करता है। इसी तरह नाक की गंदगी भी हकीकत में निहायत अहम है। आँखों के आँसुओं की अहमियत तो जग जाहिर है ही। मतलब ये हुआ कि जिस्म का कोई भी हिस्सा यहां तक कि जिस्म से निकलने वाली गंदगी जो लोगों की नज़र में बेकार सी शय है और वो यही समझते हैं कि यह किसी मशीन से निकलने वाले वेस्ट मैटीरियल की तरह है, हकीकत में ऐसा नहीं है बल्कि ये वेस्ट मालूम होने वाला मैटीरियल भी जिस्म के लिये उतना ही ज़रूरी है जितना कि आँखें, और हाथ पैर वगैरा।
 
जानवरों के बारे में भी इमाम इंटेलिजेंट डिज़ाइन की बात करते हैं।  मसलन चीटियों के बारे में कहते हैं  ‘चींटी दाने हासिल करने के बाद उन को दरमियान से दो टुकड़े कर देती है कि कहीं ऐसा न हो कि ये दाने उनके सुराखों में पानी पाकर उग आयें और उनके काम के न रहें। और जब उन दानों को तरी पहुंच जाती है तो उनको निकाल कर फैला देती है ताकि खुश्क हो जायें। फिर ये भी है कि चींटियां ऐसे मुकाम पर अपना सूराख बनाती हैं जो बुलन्द हो ताकि पानी की रौ वहां तक पहुच कर उन्हें गर्क न कर दे। मगर ये सब बातें बगैर अक्ल व फिक्र के हैं और एक फितरी व कुदरती बातें हैं जो उन की मसलहत के वास्ते खुदाए अज्जोज़ल की मेहरबानी से उन की खिलकत में दाखिल कर दी गयी हैं।’  

जानवर किस तरह अपना पेट भरने के लिये शिकार करते हैं, इसपर उनके कुछ कौल तौहीद मुफ़ज़्ज़ल में इस तरह हैं :
लोमड़ी, जब उसे खुराक नहीं पहुंचती तो अपने को मुरदा बना लेती है और अपना पेट फुला लेती है। इसलिए कि परिन्दे उसे मुरदा समझें। और जैसे ही परिन्दे उसको नोचने और खाने के लिये उसपर गिरते हैं, फौरन उनपर हमला करती और पकड़ लेती है।
दुल्फीन (डाल्फिन) जब परिन्दों का शिकार चाहता है तो उसकी इस मामले में ये तदबीर होती है कि पहले मछली को पकड़ कर मार डालता है। ताकि वह पानी पर उभरी रहे, और खुद उसके नीचे छुपा रहता है और पानी को उछालता रहता है कि कहीं उसका जिस्म न दिखाई दे। जब कोई परिन्दा उस मरी हुई मछली पर गिरता है तो उसे उचक कर शिकार कर लेता है।
उस जानदार को देखो जिसे लैस (शेर) कहते हैं और आम लोग उस को मक्खियों का शेर कहते हैं। ये एक किस्म की मकड़ी है जो मक्खियों का शिकार करती है। तुम देखोगे जब उसे मक्खी का एहसास होता है कि उस के क़रीब आयी, तो देर तक उसे छोड़े रखती है गोया खुद एक मुरदा चीज़ है जिसमें कुछ हरकत ही नहीं। जब मक्खी को मुतमईन पाती है और खुद से उस को गाफिल देखती है तो निहायत आहिस्ता आहिस्ता उस की तरफ चलती है। जिस वक्त इतनी करीब पहुंच जाती है कि उसे पकड़ सके तब उसपर जस्त लगाकर पकड़ लेती है और फिर इस तरह उसके तमाम जिस्म से चिमटती है कि कहीं छूट न जाये और इतनी देर तक उसको मज़बूत थामे रहती है कि उसे महसूस हो जाता है कि मक्खी अब कमज़ोर हो गयी है और हाथ पाँव उसके ढीले हो गये। फिर मुत्वज्जे होती है और उसे किसी महफूज़ मुकाम पर ले जाकर अपनी गिज़ा बनाती है और उसी के ज़रिये से उसकी हयात है।
लेकिन आम मकड़ी, तो वह जाला तनती और उसे मक्खियों के शिकार का जाल और फन्दा बनाती है और खुद उसके अन्दर छुप कर बैठ जाती है। ज्योंही मक्खी उसमें फंसती है, उसको लपक कर दम बदम काटना शुरू कर देती है। उसकी जिंदगी इसी तरह बसर होती है।

Sunday, May 2, 2021

इमाम हज़रत अली (अ.) - नायाब मोती 2

 इमाम हज़रत अली (अ.) का अपने गवर्नर के नाम सन्देश : लोगों से अख़लाक़ के साथ मिलना, उनसे नरमी का बर्ताव करना, बड़े दिल के साथ पेश आना, और सबको एक नज़र से देखना कि बड़े लोग तुमसे अपनी नाहक़ तरफ़दारी की उम्मीद न रखें और छोटे लोग तुमसे अद्ल व इन्साफ में उनके मुक़ाबले में नाउम्मीद न हो जायें  

... अल्लाह के बन्दों मौत और उसकी आमद से डरो. उसके लिये सरोसामान फ़राहम करो. वह आयेगी और एक बड़े हादसे और सानिहे के साथ आएगी जिसमें या तो भलाई ही भलाई होगी कि जिसमें बुराई का कभी गुज़र न होगा या ऐसी बुराई होगी कि जिसमें कभी भलाई का शायबा न होगा
(नहजुल बलाग़ा - खत 27)

Saturday, May 1, 2021

इमाम हज़रत अली (अ.) - नायाब मोती 1

 कभी कभी बीमारी दवा और दवा बीमारी बन जाया करती है - इमाम हज़रत अली (अ.)

दुनिया में बस इतना ही अपना समझो जिससे अपनी आख़िरत की मंज़िल संवार सको।  अगर तुम हर उस चीज़ पर जो तुम्हारे हाथ से जाती रहे वावैला मचाते हो तो फिर हर उस चीज़ पर रंज व अफ़सोस करो कि जो तुम्हें नहीं मिली - इमाम हज़रत अली (अ.)

(नहजुल बलाग़ा - खत 31 वसीयतनामा) 

Sunday, April 25, 2021

आक्सीजन के बारे में इमाम हज़रत अली(अ.) का बयान

 आक्सीजन के बारे में इमाम हज़रत अली(अ.) का बयान जो नहजुल बलाग़ा के खुत्बा - 131 मे इस तरह मौजूद है, ‘और तरोताज़ा शादाब दरख्त सुबह व शाम उसके आगे सर बसुजूद हैं और अपनी शाखों से चमकती हुई आग भड़काते हैं...’

इस जुमले पर गौर करने पर दो चीज़ें नज़र आती हैं। पहली ये कि इसमें शादाब दरख्तों के सुबह व शाम सजदे में होने का ज़िक्र है। और दूसरी ये कि इसमें उन दरख्तों की शाखों का चमकती हुई आग भड़काने का ज़िक्र है। यानि तरोताज़ा शादाब दरख्तों में कोई ऐसा अमल हो रहा है जो सुबह व शाम के वक्त कुछ अलग होता है और दिन के बाक़ी अवक़ात में अलग। और इस अमल से तरोताज़ा शादाब दरख्तों की शाखों से कोई ऐसी चीज़ बनती है जो चमकती हुई आग को भड़काती है।
अगर यहाँ इमाम(अ.) शादाब दरख्तों की बजाय सूखे दरख्तों की बात करते तो ये जुमला एक मामूली जुमला होता। क्योंकि सूखे दरख्तों से आग भड़कने की बात हर एक की समझ में आती है। लेकिन जब शादाब दरख्तों से चमकीली आग के भड़कने का ज़िक्र हो तो इस जुमले का राज़ बहुत गहरा हो जाता है। और कम से कम इमाम अली(अ.) के ज़माने की साइंस उस राज़ तक नहीं पहुंच पायी थी।
और वह राज़ है हरे पौधों में फोटोसिंथेसिस का और उसके ज़रिये आक्सीजन के बनने का। इमाम(अ.) के इस जुमले में फोटोसिंथेसिस के ज़रिये आक्सीजन के ही बनने का ज़िक्र हो रहा है।
लेकिन ये दोनों ही अमल उस वक्त रुके होते हैं या उनकी रफ्तार न के बराबर हो जाती है जब इंसान अल्लाह की इबादत में और खासतौर से सज्दे में सर रखे होता है। उस वक्त न तो वह अपनी ज़रूरत की चीज़ें हासिल करता है, न ही दूसरों की ज़रूरत की चीज़ें तैयार करता है। उसका ज़हन व जिस्म उस वक्त सिर्फ और सिर्फ अल्लाह की इबादत में मशगूल होता है।
तरोताज़ा शादाब दरख्त भी दो तरह के अमल करते हैं। पहला तो ये कि ज़मीन से पानी व नाईट्रेट और हवा से कार्बन डाई आक्साइड लेते हैं। साथ में साँस लेने के लिये आक्सीजन लेते हैं। जबकि दूसरे अमल में सूरज की रोशनी में फोटोसिंथेसिस करते हुए आक्सीजन बनाकर हवा में छोड़ते हैं। जो कि हर तरह के जानदारों के सांस लेने में काम आती है। इसी फोटोसिंथेसिस के ज़रिये वह तमाम जानदारों के लिये फल व अनाज वगैरा की शक्ल में खाने की अशिया भी बनाते हैं। चूंकि दिन के वक्त सूरज की रोशनी ज़्यादा होती है लिहाज़ा फोटोसिंथेसिस का अमल भी तेज़ होता है। यानि दरख्त फिज़ा में आक्सीजन ज़्यादा छोड़ते हैं और इसकी बनिस्बत साँस लेने में कम आक्सीजन लेते हैं। जबकि रात में इसका उलटा होता है, क्योंकि सूरज की रोशनी की गैरमौजूदगी में फोटोसिंथेसिस का अमल रुक जाता है जबकि पौधों का साँस लेना जारी रहता है।
लेकिन पूरे रात दिन में दो वक्त ऐसे होते हैं जब पौधे जितनी आक्सीजन साँस के ज़रिये लेते हैं उतनी ही फोटोसिंथेसिस के ज़रिये छोड़ते हैं। ये दो वक्त हैं सुबह तड़के फजिर का वक्त और शाम को मग़रिब का वक्त। हम कह सकते हैं कि इन दोनों अवक़ात में न तो नबातात फिज़ा को कुछ देते हैं, न लेते हैं। साइंसदानों ने इसे नाम दिया है Compensation Point यह ठीक वही सिचुएशन है जैसे इंसानों में सज्दे व इबादत के वक्त होती है।
इस तरह इमाम अली(अ.) तरोताज़ा शादाब दरख्तों के सज्दे के ज़रिये न सिर्फ Respiration और Photosynthesis की तरफ इशारा कर रहे हैं बल्कि दिन के अलग अलग अवक़ात में इसके बदलने की भी बात कर रहे हैं।
इमाम(अ.) के बयान के दूसरे हिस्से से पूरी तरह साफ हो जाता है कि इमाम अली(अ.) न सिर्फ फोटोसिंथेसिस की बात कर रहे हैं बल्कि उस अमल में आक्सीजन मिलती है, इस राज़ को भी ज़ाहिर कर रहे हैं। जैसा कि इमाम(अ.) फरमा रहे हैं कि , ‘तरोताज़ा शादाब दरख्त .... अपनी शाखों से चमकती हुई आग भड़काते हैं ’ यानि हरे व शादाब दरख्तों की शाखों में जो अमल होता है उसके नतीजे में कोई ऐसी चीज़ मिलती है जो चमकती हुई आग को भड़का देती है।
साइंस ने दरियाफ्त किया है कि आग को भड़काने में फिज़ा में मौजूद एक ही गैस का रोल होता है, और वह गैस है आक्सीजन। और यही गैस फोटोसिंथेसिस के अमल के दौरान हरे पौधों की शाखों पर मौजूद पत्तियों से बनकर निकलती है। साइंसी तारीख के मुताबिक आक्सीजन की दरियाफ्त सन 1772 में शीले नाम के साइंसदाँ ने की। इससे पहले कोई इस गैस के बारे में नहीं जानता था। लैवोज़िये ने इसी ज़माने में दरियाफ्त किया कि आक्सीजन जलने में मदद करती है। बिना आक्सीजन के किसी भी चीज़ का जलना नामुमकिन है। फोटोसिंथेसिस की दरियाफ्त वाॅन हेल्मोन्ट ने सत्रहवीं सदी में की। लेकिन उसे यह पता नहीं चला था कि इस प्रोसेस में आक्सीजन पैदा होती है। इसे मालूम किया जोसेफ प्रीस्टले ने अट्ठारहवीं सदी में। जब आक्सीजन की दरियाफ्त उसी वक्त में हुई थी।
प्रीस्टले ने बताया कि पौधे सूरज की रोशनी में आक्सीजन पैदा करते हैं। लेकिन आक्सीजन पैदा करने की प्रोसेस यानि फोटोसिंथेसिस दरख्तों की पत्तियों में होती है, जो कि दरख्तों की शाखों पर होती हैं यह बीसवीं सदी में पहले दुनिया नहीं जानती थी। बीसवीं सदी में वान नील नाम के साइंसदाँ ने इस बारे में बताया।
लेकिन इन सब साइंसदानों से बहुत पहले इमाम अली(अ.) पाँचवीं-छठी सदी में साफ साफ बता रहे हैं कि शादाब दरख्तों की शाखों में (फोटोसिंथेसिस का) अमल होता है जिसमें चमकती हुई आग को भड़काने वाली शय (आक्सीजन) पैदा होती है। यहाँ पर इमाम(अ.) आक्सीजन की खासियत को भी साफ साफ बयान कर रहे हैं। आक्सीजन आग को भड़काती है यानि जलने में मदद देती है, लेकिन खुद आग को पैदा नहीं करती। यानि किसी और तरीके से पैदा हुई आग को आगे जलते रहने के लिये आक्सीजन काम आती है, लेकिन हम अगर चाहें कि सिर्फ आक्सीजन की मदद से आग को पैदा भी कर दें तो यह मुमकिन नहीं। अगर ऐसा मुमकिन होता तो पूरी दुनिया में हर तरफ आग ही आग नज़र आती क्योंकि फिज़ा में बीस फीसदी आक्सीजन ही होती है।

इस तरह की और जानकारियों के लिये देखें किताब : 
नहजुल बलाग़ाह का साइंसी इल्म
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी
प्रकाशक : अब्बास बुक एजेंसी, लखनऊ 
ई बुक के तौर पर यह किताब इस लिंक से हासिल की जा सकती है :

Thursday, April 8, 2021

पैगम्बर मोहम्मद (स.) कौन थे ?

पैगम्बर मोहम्मद (स.) वह महापुरुष थे :

जिन्होंने बेटियों को क़ब्र में ज़िंदा दफनाने की रस्म बंद की
जिन्होंने उस बीमार बुढ़िया से हमदर्दी की जो रोज़ उनपर कूड़ा फेंकती थी
जिनके सच बोलने की गवाही पूरा अरब देता था चाहे उसमें दुश्मन हों या दोस्त।
जिन्होंने गरीबों की मदद के लिए ज़कात जैसा सिस्टम बनाया.
जिन्होंने छोटे छोटे क़बीलों में बंटे पूरे अरब को एक राष्ट्र का रूप दिया.
जिन्होंने अफ्रीका से लाये गये हब्शी गुलामों को समाज में वही स्थान दिलाया जो वहाँ और लोगों का था.
जिन्होंने अरबी क़बीलों के बीच सैंकड़ों सालों से चलने वाली पुश्तैनी लड़ाइयों को ख़त्म करवाया.
जिन्होंने मक्के की फतह के बाद उन तमाम लोगों को आम माफ़ी दे दी जिन्होंने उन्हें और उनके मानने वालों पर अत्याचार किये था और बहुतों को शहीद कर दिया था।
जिन्होंने अपनी पूरी दौलत ग़रीबों के कल्याण में लुटा दी और खुद अपना कोई निजी महल नहीं बनाया।
जिन्होंने बताया की कोई दूसरे से न तो ऊंचा है और न नीचा। केवल अच्छे कर्म ही एक को दूसरे से श्रेष्ठ करते हैं।
जिन्होंने न्याय के लिये ऐसे क़ानून बनाये जो सभी पर समान रूप से लागू थे।
जिन्होंने युद्धकाल में मानवाधिकार के क़ानून बनाये.
जिनके पास बाहर जाने वाले अपनी क़ीमती चीज़ें रखकर जाते थे और वापसी में वैसी ही पाते थे जैसी छोड़कर जाते थे।
जिन्होंने बताया की तुममें बेहतर वो है जिसकी वजह से किसी को तकलीफ न पहुंचे। न तो ज़बान से और न हाथों से.
जिन्होंने बताया की अच्छा पुरुष वो होता है जो औरतों की इज़्ज़त करे.
जिन्होंने नशामुक्त समाज के क़ानून बनाये.
जिन्होंने रिश्वत और सूद पर रोक लगाईं.
जिन्होंने गलत नापतौल पर सज़ा के क़ानून बनाये.
जिन्होंने जमाखोरी पर रोक लगाई और वेस्टेज से मना किया।
जिन्होंने बताया की अज्ञानी न बनो और ज्ञान हासिल करने की हर मुमकिन कोशिश करो.
जिन्होंने प्रॉपर्टी के न्यायपूर्ण बंटवारे के क़ानून बनाये जिसमें बेटियों का भी हक़ था.
जिन्होंने महिलाओं को भी तलाक़ लेने का हक़ दिलाया।
और ये सब काम उन्होंने सिर्फ बीस साल की अवामी ज़िन्दगी में कर दिखाए थे जबकि उनके दुश्मन उनका जीना हराम कर रहे थे।

Saturday, July 11, 2020

इम्यून सिस्टम के बारे में बताया इमाम हज़रत अली (अ.) ने

कोरोना महामारी के इस वक्त में जो चीज़ सबसे ज़्यादा सुनने को मिलती है वो है जिस्म का इम्यून सिस्टम। इस वक्त यही एक चीज़ है जो इस बीमारी को मात दे रही है। ये इम्यून सिस्टम क्या है? दरअसल न सिर्फ इंसानी जिस्म बल्कि दूसरे जानदारों के जिस्म में भी कुछ ऐसे सिस्टम मौजूद होते हैं जो बाहरी हमलों यानि बीमारियों के जरासीमों (बैक्टीरिया, वायरस वगैरा) से जिस्म की हिफाज़त करते हैं। ये जिस्म के लिये खतरनाक जरासीमों की पहचान करते हैं और उनके जिस्म पर असर करने से पहले ही उन्हें खत्म कर देते हैं। हमारे ऊपर न जाने कितनी बीमारियों के वायरस या बैक्टीरिया व दूसरे माइक्रोआर्गेनिज़्म हमला करते रहते हैं लेकिन जिस्म का हिफाज़ती सिस्टम उन्हें असरअंदाज़ नहीं होने देता। 

इम्यून सिस्टम की खोज अट्ठारहवीं सदी की मानी जाती है। उस ज़माने में पियरे लुइस नाम के साइंटिस्ट ने देखा कि कुछ कुत्तों और चूहों पर ज़हरीले साँपों के काटने का कोई असर नहीं होता। उसने अंदाज़ा लगाया कि इनके जिस्म के अन्दर कोई ऐसा सिस्टम है जो इस ज़हर का तोड़ है। 

बाद में लुइस पाश्चर ने बताया कि बदन में बीमारियों के लिये निहायत महीन कीड़े, जर्म या जरासीम ज़िम्मेदार होते हैं। उसने बताया कि इस तरह के जरासीम साँस लेने में या खाते पीते वक्त हवा, पानी या खाने के ज़रिये हमारे जिस्म में पहुंच जाते हैं और बीमारियों को फैलाने की कोशिश करते हैं। लेकिन जिस्म में एक मज़बूत हिफाज़ती सिस्टम (Immunological System) पाया जाता है जो इन जरासीमों के खिलाफ लड़ता रहता है। अगर कभी ये सिस्टम कमज़ोर पड़ जाता है या किसी नये जरासीम की पहचान नहीं कर पाता तो वहीं से इंसान बीमारी में घिर जाता है। लुइस पाश्चर ने जिस्म के इम्म्यून सिस्टम का गहराई के साथ अध्ययन किया और ये पाया कि जब कोई बैक्टीरिया या वायरस वगैरा पहली बार जिस्म में दाखिल होता है तो यह सिस्टम उसकी पहचान अपनी मेमोरी में स्टोर कर लेता है और उसके खिलाफ एण्टीबाडीज़ डेवलप कर लेता है। जिससे कि दोबारा वो बैक्टीरिया या वायरस कभी दाखिल हो जाये तो इम्म्यून सिस्टम तुरंत उसे पहचान कर उसे खत्म कर दे। इसी फैक्ट का इस्तेमाल करके वैक्सीन बनायी जाती है। वैक्सीन दरअसल जिंदा या मुर्दा बैक्टीरिया या वायरस की कोई कमज़ोर हालत होती है। जिसे जिस्म में दाखिल कराया जाता है। इससे जिस्म में उस खास जरासीम के लिये इम्म्यूनिटी डेवलप हो जाती है। और आगे जब भी उस तरह के जरासीम का कोई खतरनाक हमला होता है तो जिस्म का सिस्टम उसके खिलाफ लड़ लेता है। 

अब एक सवाल पैदा होता है क्या अट्ठारहवीं सदी से पहले दुनिया इम्यून सिस्टम के बारे में जानकारी रखती थी? हज़ार साल पुरानी किताब नहजुल बलाग़ा का एक बयान इसका जवाब हाँ में देता है। 

इमाम हज़रत अली का ये बयान खुत्बा नंबर 81 के तौर पर इस किताब में दर्ज है और इसमें कहा गया है, ‘उसने तुम्हारे लिये कान बनाये ताकि ज़रूरी और अहम चीज़ों को सुनकर महफूज़ रखें और उसने तुम्हें आँखें दी हैं ताकि वह कोरी व बे बसरी से निकल कर रोशन व ज़ियाबार हों और जिस्म के मुख्तलिफ हिस्से ...... अलावह दीगर बड़ी नेमतों और एहसानमन्द बनाने वाली बख़्शिशों और सलामती के हिसारों के।’ इमाम अली(अ.) के इस बयान के आखिरी अलफाज़ पर गौर करें - ‘और सलामती के हिसारों के....’। इंसानी जिस्म के बारे में बताते हुए यहां पर इमाम फरमा रहे हैं कि हमारे जिस्म की सलामती के लिये परवरदिगार ने कुछ हिसार यानि घेरे ( Protection covers ) भी अता किये हैं। 

क्या मतलब है इन घेरों का? क्या हमारे जिस्म पर कछुए की तरह कोई कवच है? या हमारी खाल गेंडे की तरह सख्त है? या हाथी की तरह मोटी है? जिसपर सर्दी, गर्मी या चोट का कोई असर नहीं होता?
लेकिन हमारे जिस्म की न तो खाल मोटी है और न ही अल्लाह ने हमें कोई कुदरती कवच बख्शा है। तो फिर इमाम अली(अ.) के ‘सलामती के हिसार’ का क्या मतलब हुआ? साफ है कि इनसे इमाम का मतलब इम्यून सिस्टम ही था।

जिस्म का ये हिफाज़ती सिस्टम कितना अहम है इसका पता एड्स जैसी बीमारियों में चलता है, जब ये घेरा टूट जाता है। उस वक्त एक मामूली वायरस या बैक्टीरिया भी जानलेवा साबित होता है। जिस्म का यही हिफाज़ती सिस्टम है ‘सलामती का हिसार’ जिसकी तरफ साइंस ने ध्यान दिया अट्ठारहवीं सदी में, यानि इमाम अली(अ.) के बयान के पूरे तेरह सौ साल बाद।

जिस्म का हिफाज़ती सिस्टम ऐसा हैरतअंगेज़ सिस्टम है जो माबूद ने न सिर्फ इंसानों को बल्कि हर एक जानदार को बख्शा है। अगर ये न हो तो शायद इंसान एक दिन भी ज़िन्दा न रह सके। यह सिस्टम खामोशी से लगातार अपना काम करता रहता है और हमें जिन्दा व सेहतमन्द रखता है। अट्ठारहवीं सदी से पहले दुनिया इस सिस्टम से पूरी तरह अंजान थी लेकिन इमाम अली(अ.) की इमामत की नज़र इसे भरपूर तरीके से देख रही थी और सामने वाले को ‘....और सलामती के हिसारों’ जैसी आम फहम ज़बान में बता भी रही थी। ज़रूरत थी तो बस इमाम(अ.) के अलफाज़ पर गौर करने की।

इस तरह की और जानकारियों के लिये देखें किताब : 
नहजुल बलाग़ाह का साइंसी इल्म
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी
प्रकाशक : अब्बास बुक एजेंसी
ई बुक के तौर पर यह किताब इस लिंक से हासिल की जा सकती है :

Saturday, May 25, 2019

इमाम हज़रत अली का बयान दुनिया के बारे में

इमाम हज़रत अली (अ.) नहजुल बलाग़ा के खुत्बा नं 109 में बयान करते हैं, ‘वह (दुनिया) धोकेबाज़ है और उसकी हर चीज़ धोका।’

यकीनन पल पल बदलती दुनिया को धोकेबाज़ ही कहा जा सकता है, जिसकी इंसान ख्वाहिश करता है लेकिन नतीजे में उसे मौत के सिवा कुछ हासिल नहीं होता। लेकिन यहाँ खास बात ये है कि जदीद साइंस भी दुनिया को ‘धोका’ ही बता रही है। देखते हैं किस तरह।

हमारे आसपास दो तरह की चीज़ें पायी जाती हैं। अलमारी, मेज़, कुर्सी वगैरा को हम छूकर महसूस कर सकते हैं। ये चीज़ें जगह घेरती हैं। यानि अगर किसी जगह पर एक मेज़ रखी है, तो उस जगह पर दूसरी मेज़ या कोई और चीज़ नहीं रखी जा सकती। इस तरह की चीज़ों में हम कहते हैं कि मैटर या द्रव्यमान मौजूद है, जिसकी वजह से वह चीज़ जगह घेर रही है। इनके अलावा कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जो मौजूद तो होती हैं लेकिन जगह नहीं घेरतीं। जैसे कि रोशनी, रेडियो वेव्स वगैरा। एक कामन लफ्ज़ इनके लिये एनर्जी का है। यानि एनर्जी जैसी चीज़ जगह नहीं घेरती, इसलिए इसमें द्रव्यमान नहीं होता। लेकिन अब क्वांटम फिज़िक्स के मौजूदा नज़रियात ये बता रहे हैं कि जिन चीज़ों को हम छूकर महसूस कर रहे हैं, वह सिर्फ एक धोका है और द्रव्यमान भी दरअसल एनर्जी की ही शक्ल है। यानि द्रव्यमान का अलग से कोई वजूद नहीं होता।

जदीद साइंस के मुताबिक जो चीज़ें जगहें घेरती हैं, यानि जिनमें द्रव्यमान होता है वो फर्मियान्स नाम के ज़र्रात से मिलकर बनी होती हैं। फर्मियान्स में द्रव्यमान होता है और अगर किसी जगह पर एक फर्मियान मौजूद है तो वहाँ दूसरा फर्मियान नहीं आ सकता। दूसरी तरफ बोसान्स नाम के ज़र्रात होते हैं जो ऐसी चीज़ों को बनाते हैं जो जगह नहीं घेरतीं। जैसे कि रोशनी या ताक़तें। 

इनका रेस्ट मास (रुका हुआ द्रव्यमान) ज़ीरो होता है। अगर किसी जगह पर एक बोसान मौजूद है तो वहाँ दूसरा बोसॉन भी आ सकता है।
जब साइंसदानों ने बिग बैंग का नज़रिया दरियाफ्त किया जिसके मुताबिक एक महाधमाके ने यूनिवर्स की पैदाइश की और उसके बाद ही द्रव्यमान रखने वाले फर्मियान्स पैदा हुए। उससे पहले पूरा यूनिवर्स एनर्जी की हालत में एक प्वाइंट में सिमटा हुआ था। यानि जितना भी द्रव्यमान पैदा हुआ वह एनर्जी के बाद ही पैदा हुआ। इस दरियाफ्त ने साइंसदानों को यह सोचने पर मजबूर किया कि हो न हो, द्रव्यमान भी दरअसल एनर्जी की ही हालत है। सन 1964 ई. में पीटर हिग्स नाम के साइंसदाँ ने ‘गॉड पार्टिकिल’ का कान्सेप्ट दिया।

उसके मुताबिक दुनिया के तमाम फर्मियान्स में द्रव्यमान खास तरह के बोसान्स के मिलने से पैदा होता है। ये बोसान्स गॉड पार्टिकिल कहलाते हैं। गॉड पार्टिकिल पूरे यूनिवर्स में हिग्स फील्ड की सूरत में बिखरे हुए हैं। जब इनमें से बहुत से पार्टिकिल एक जगह पर इकट्ठा हो जाते हैं तो एक फर्मियान ज़र्रे की पैदाइश करते हैं जिसे महसूस किया जा सकता है। जबकि खुद गॉड पार्टिकिल को महसूस नहीं किया जा सकता, क्योंकि ये लगातार ज़ाहिर व ग़ायब होते रहते हैं। यानि इन्हें हम एक ‘धोका’ कह सकते हैं। तो फिर इनसे बनी तमाम दुनिया भी एक ‘धोके’ के सिवा कुछ नहीं, ऐसा जदीद साइंस के नज़रिये से साबित हो जाता है।

इससे पूरी तरह अलग साइंस के कुछ और नज़रियों के मुताबिक भी दुनिया एक धोके के सिवा कुछ नहीं। साइंस ने दरियाफ्त किया है कि, ‘जिसे हम बाहरी दुनिया के तौर पर देखते व महसूस करते हैं, वह सिर्फ दिमाग़ के ज़रिये पैदा एक नज़रिया होता है जो हमारे हास्सों से आने वाले इलेक्ट्रिकल सिग्नल पर आधारित होता है।’
दुनिया के रंग जो हम देखते हैं, चीज़ों को छूकर उनकी सख्ती या नर्मी जो हम महसूस करते हैं। चीज़ों की लज़्ज़तें जो हमारी ज़बान चखती है। तरह तरह की आवाज़ें जो हम अपने कानों से सुनते हैं। खुश्बुएं जो हम सूंघते हैं और इसके अलावा अपने आसपास की हर चीज़, हमारा काम, हमारा घर, फर्नीचर, बच्चे, जिन्हें हम अपने क़रीब या दूर देखते हैं, जिनका हमें एहसास होता है वह सब सिर्फ और सिर्फ इलेक्ट्रिक सिग्नल होते हैं जिन्हें हमारे हास्से हमारे दिमाग तक भेजते हैं। 

इसको देखते हुए बर्टरैण्ड रसेल और एलक विटिगेन्स्टाइन का कहना है, ‘एक नींबू दरहक़ीक़त वजूद में है या नहीं और यह कैसे वजूद में आया इसे मालूम नहीं किया जा सकता। एक नींबू दरअसल एक ग्रुप होता है ज़ायके, जिसे ज़बान से महसूस करते हैं, खुशबू जिसे नाक महसूस करती है, रंग व सूरत जिसे आँख महसूस करती है, और सिर्फ यही फीचर्स नापे जा सकते हैं यानि इनका मुतालिया किया जा सकता है। साइंस कभी भी फिज़िकल दुनिया को नहीं जान सकती।

फ्रेडरिक वेस्टर का कहना है कि, ‘कुछ साइंसदानों का बयान कि ‘‘इंसान एक इमेज है। सब कुछ जिसका तजुर्बा किया जाता है वह टेम्प्रेरी है और बदलने वाला है और ये पूरा यूनिवर्स एक साये की तरह है’ एक दिन साइंस यकीनन इस बयान को साबित कर देगी।’’

इस तरह बहुत से साइंसदाँ इस दुनिया को एक साये की तरह मानते हैं जिसका असलियत में कोई वजूद नहीं।
हम सिर्फ एक बात को ही कन्फर्मेशन के साथ कह सकते हैं कि दुनिया को देखने का तजुर्बा हर शख्स का अपना ज़ाती होता है, जिसे ‘फिश आई तजुर्बा’ भी कह सकते हैं। पानी में तैरने वाली मछली को जो दुनिया कर्व दिखाई देती है वह हमारी नज़र में सीधी होती है। बड़ी मछली व छोटी मछली को भी एक ही दुनिया अलग अलग शक्लों में नज़र आती है और उनके लिये दुनिया की वही शक्ल असली होती है जबकि हकीकत कुछ और ही होती है।

लिहाज़ा ये साबित हुआ कि दुनिया एक धोके (Mirage) के सिवा कुछ नहीं। इमाम अली(अ.) के फरमान पर जदीद साइंस मोहर लगा चुकी है।

इस तरह की और जानकारियों के लिये देखें किताब : 
नहजुल बलाग़ाह का साइंसी इल्म
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी
प्रकाशक : अब्बास बुक एजेंसी
ई बुक के तौर पर यह किताब इस लिंक से हासिल की जा सकती है :

Friday, May 24, 2019

इमाम हज़रत अली का बयान अल्लाह की अब्दियत के बारे में

आज से ठीक चौदह सौ साल पहले एक ज़ालिम की ज़हर बुझी तलवार ने एक ऐसी अज़ीम हस्ती को क़त्ल कर दिया था जो हर मज़लूम का सहारा था और इंसाफ चाहने वाली हर नज़र उसी की तरफ उठती थी और उससे तलब करने वाला कभी मायूस नहीं होता था। इमाम हज़रत अली इल्म, अदालत, सखावत, बहादुरी हर गुण में बेमिसाल थे। उनके इल्म की एक हल्की सी झलक नहजुल बलाग़ा के खुत्बा नं 107 के इन अलफाज़ में मिलती है, ‘तू अबदी है जिसकी कोई हद नहीं और तू ही मंज़िले मुनतहा है कि जिससे कोई गुरेज़ की राह नहीं।’’ यानि अल्लाह के लिये किसी हद का तसव्वुर नहीं। इमाम(अ.) ने यहाँ पर ‘अब्दी’ लफ्ज़ का इस्तेमाल किया है जिसका एक खास मफहूम है।

साइंसदाँ आज ये देख चुके हैं कि यूनिवर्स लगातार फैल रहा है। यानि यूनिवर्स की तमाम चीज़ें सितारे व गैलेक्सीज़ वगैरा एक दूसरे से दूर जा रहे हैं। ये फैलाव किसी गुब्बारे की तरह हो रहा है। इस फैलाव की मुनासिबत से देखते हुए अगर तारीख में पीछे की तरफ जाया जाये तो यूनिवर्स छोटा और छोटा होता जायेगा और आखिर में एक प्वाइंट में जाकर सिमट जायेगा। इस नतीजे से साइंसदानों को एक थ्योरी मिलती है ‘बिग बैंग’। 

बिग बैंग थ्योरी में दिखने वाले यूनिवर्स की शुरूआत आइंस्टीन की रिलेटिविटी समीकरणों में भी दिखाई देती है और यह शुरूआत एक ऐसे प्वाइंट को दिखाती है जहाँ पर टेम्प्रेचर, घनापन (Density) और यूनिवर्स का टेढ़ापन (Curvature) सब कुछ अनन्त या ‘अबदी’ है। इस अबदी प्वाइंट को साइंस ‘सिंगुलैरिटी (Singularity)’ नाम से पुकारती है। साइंसदानों के मुताबिक इस तरह की सिचुएशन का तसव्वुर ही नहीं किया जा सकता, लिहाज़ा उनके मुताबिक थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी यहाँ पर आकर रुक जाती है। यानि शुरूआत के बाद यूनिवर्स कैसे फैला, ये तो बताया जा सकता है, लेकिन शुरूआत हुई कैसे इस बारे में बताने से थ्योरी फेल हो जाती है। 

यूनिवर्स की सिंगुलैरिटी एक ऐसा प्वाइंट है जिसके बारे में बताने से रिलेटिविटी समीकरणें लाचार हैं। लेकिन साथ ही ये समीकरणें उस प्वाइंट के वजूद को कन्फर्म भी करती हैं। ठीक इसी तरह अल्लाह इस मायने में अबदी है कि दुनिया की तमाम समीकरणें उसके बारे में बताने से लाचार हैं, लेकिन साथ ही उसके वजूद को कन्फर्म भी करती हैं।

मैथेमैटिक्स व साइंस की तमाम इक्वेशंस तरह तरह की सिंगुलैरिटीज़ से भरी पड़ी हैं। मसलन काम्प्लेक्स नंबर इक्वेशन में पोल्स (Poles) की सिंगुलैरिटी, या फिर डोमेन वाल नाम की सिंगुलैरिटी जो टू डाईमेन्शन में दिखाई देती है। फिज़िकल साइंस में ग्रैविटेशनल फील्ड (Gravitational Field) की सिंगुलैरिटी स्पेस-टाइम में नज़र आती है जहाँ पर ग्रैविटेशनल फील्ड को नापने वाली क्वांटिटीज़ इनफाईनाइट हो जाती हैं। ब्लैक होल के भीतर या शिवर्ज़चाइल्ड रेडियस से बड़े सितारे के खात्मे में भी सिंगुलैरिटी की झलक दिखती है।

इस तरह हम देखते हैं कि अब्दियत या सिंगुलैरिटी साइंस के लिये जानी पहचानी हक़ीक़त है जो जगह जगह नज़र आती है, ऐसे प्वाइंट की शक्ल में जहाँ पर कोई इक्वेशन इन्फार्मेशन देने से लाचार हो जाती है। यानि उस प्वाइंट की इन्फार्मेशन हमारे डाईमेन्शन सिस्टम से बाहर निकल जाती है, लेकिन साथ ही ऐसे प्वाइंट का वजूद भी कन्फर्म होता है। इस तरह अब्दियत (Singularity) की ये मिसालें अल्लाह के वजूद की अब्दियत को साबित करती हैं। 

हम अल्लाह की अब्दियत को इस तरह कह सकते हैं कि अगर तमाम कायनात की खिलक़तों को इक्वेशन माना जाये तो इन खिलक़त की इक्वेशन्स की सिंगुलैरिटी ही है अल्लाह की अब्दियत। खिलक़त की इक्वेशन्स एक सिंगुलैरिटी यानि खालिक़ की तरफ इशारा करती हैं, लेकिन उस खालिक़ के बारे में इन्फार्मेशन किसी इक्वेशन के ज़रिये हासिल होना नामुमकिन है। यही है खालिक़ की अब्दियत।
लेकिन इसका ये भी मतलब नहीं लेना चाहिए कि अल्लाह किसी सिंगुलर प्वाइंट की तरह किसी जगह में सिमटा हुआ है। दरअसल यहाँ पर उस गुण की बात हो रही है जिसका नाम ‘सिंगुलैरिटी’ है। और अपने इन अलफाज़ के ज़रिये इमाम अली(अ.) ‘सिंगुलैरिटी’ के कान्सेप्ट को ज़ाहिर कर रहे हैं, जहाँ तक साइंस की पहुंच इमाम अली(अ.) के बहुत बाद के ज़माने में हुई। और खिलक़त की अब्दियत को तो साइंस ने चौदह सौ साल बाद समझा। वह भी पूरी तरह नहीं। 

इस तरह की और जानकारियों के लिये देखें किताब : 
नहजुल बलाग़ाह का साइंसी इल्म
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी
प्रकाशक : अब्बास बुक एजेंसी
ई बुक के तौर पर यह किताब इस लिंक से हासिल की जा सकती है :

Saturday, March 3, 2018

कितने अक्षर हो सकते हैं एक आदर्श भाषा में?


अक्षर हमारी ज़बान और भाषा के मूल होते हैं। अक्षरों के बिना कोई भी भाषा शुरू नहीं होती। अलग अलग भाषाओं में अक्षरों की संख्या अलग अलग है। अगर अंग्रेजी में 26 अक्षर हैं तो उर्दू में 38। हिन्दी में 47 अक्षर हैं तो मराठी में 52। अगर म अक्षरों से निकलने वाली आवाजों की बात करें तो अलग अलग भाषाओं के अक्षरों को समरूपता के आधार पर एक मान सकते हैं। मिसाल के तौर पर अंग्रेजी का ‘ए’, हिन्दी का ‘अ’ और उर्दू का ‘अलिफ’ एक ही माने जायेंगे। इसी तरह अंग्रेजी का ‘डी’, हिन्दी का ‘ड’ और उर्दू का ‘डाल’ एक जैसी आवाज़ निकालते हैं। 

कुछ ऐसी भी आवाजें होती हैं जिनके एक भाषा में तो अक्षर मिलते हैं लेकिन दूसरी में नहीं। जैसे ‘प’ के लिये हिन्दी, उर्दू और अंग्रेजी में तो अक्षर हैं लेकिन अरबी में नहीं। इसी तरह अंग्रेजी ‘ज़ेड’ के लिये हिन्दी में शुद्ध अक्षर नहीं है अत: उसे लिखने के लिये ज के नीचे बिन्दी लगानी पड़ती है। 

एक ही भाषा में कई ऐसे भी अक्षर हो सकते हैं जिनकी आवाज़ एक जैसी निकले। जैसे हिन्दी का ग और ज्ञ। या श और ष। अगर एक जैसी आवाजों वाले अक्षर कम कर दिये जायें, तो वर्णमाला में कम अक्षरों से काम चल सकता है। तो एक बड़ा सवाल ये पैदा होता है कि एक आदर्श वर्णमाला में कितने अक्षर कम से कम रखे जायें कि सारी आवाजें निकल आयें? 
अगर अंग्रेजी को आदर्श मानें तो उसमें द, त और श के लिये अक्षर नहीं हैं। यानि इनके लिये 26 से ज्यादा अक्षर होने चाहिए। इसी तरह अरबी को भी आदर्श नहीं मान सकते वरना ‘प’ के लिये कोई अक्षर नहीं मिलेगा। उर्दू और हिन्दी में ज़रूरत से ज्यादा अक्षर हैं।

इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिये आईए रुख करते हैं इस्लाम की तरफ। 

इस्लामी विद्वान शेख सुद्दूक (र.) की किताब ‘अय्यून अखबारुलरज़ा’ में इसके मुताल्लिक इमाम अली रज़ा (अ.स.) का कौल मौजूद है जो इस तरफ हमारी रहनुमाई करता है। इमाम अली रज़ा (अ-स-) खलीफा मामून रशीद के दौर की सबसे अहम शख्सियत थे, और पैगम्बर मोहम्मद (स.अ.) के सातवीं पीढ़ी के वंशज थे। उनके कौल के मुताबिक, ‘अल्लाह की पहली खिलक़त़ व इरादा और मशीयत हुरूफ अबजद (वर्णमाला या alphabet) हैं। जिन्हें अल्लाह ने हर चीज़ की बुनियाद और हर चीज़ की दलील और फैसला करने वाला बनाया। और इन्ही हुरूफ (अक्षरों) से हक़ व बातिल के तमाम नामों में जुदाई कायम की और इन्ही हुरूफ को फेअल व मफ़ऊल (एक्शन व रिएक्शन ), मतलब व गैर मतलब का जरिया बनाया और तमाम कामों का दारोमदार इन्ही हुरूफ पर रखा और अलग अलग हुरूफ की तखलीक से सिर्फ उन्ही हुरूफ के मतलब पेशे नज़र रखे गये। 
और अल्लाह जो कि आसमानों और जमीन का नूर है, उस ने अपने नूर से ही अजीम (महान) हुरूफों की तखलीक़ की और ये उस का सबसे पहला काम है। यानि हुरूफ ज़ाते हक़ के फेले अव्वल के मफऊल अव्वल हैं। और यह हुरूफ ही हैं जिन पर कलाम और इबादाते इलाही का दारोमदार है। अल्लाह तआला ने तैंतीस (33) हुरूफ खल्क किये जिन में अरबी जबान में अट्‌ठाइस हुरूफ इस्तेमान होते हैं। और इन्ही अट्‌ठाइस हुरूफ में से बाइस (22) हुरूफ सूरयानी (Suryani) व इबरानी (हिब्रू) में मौजूद हैं। और पाँच दूसरे हुरूफ अज्मी (अरब से बाहर की ज़बानें जैसे अफ्रीका वगैरा की) और दूसरी ज़बानों में बोले जाते हैं। और यूं इन की कुल तादाद तैंतीस (33) है। 

इस तरह यह साफ होता है अल्लाह ने तैंतीस (33) अक्षरों की खिलकत की है। और यह खिलकत मैटर की खिलकत से भी पहले की खिलकत है। यानि इंसान की पैदाइश बाद में हुई, लेकिन उसकी ज़बान की पैदाइश उससे पहले ही हो गयी थी। अब इमाम अली रज़ा (अ-स-) के कौल के मुताबिक किसी भी भाषा में अलग अलग आवाजों के तैंतीस हुरूफ यानि अक्षर हो सकते हैं। 

यानि अगर किसी ज़बान में तैंतीस अक्षर अलग अलग आवाजों के लिये जायें तो उनसे पूरी ज़बान यानि भाषा मुकम्मल तरीके से बोली जा सकती है। किसी भी ज़बान में अगर इससे ज्यादा अक्षर हैं तो उनकी आवाजें एक दूसरे से मिलने लगती हैं। जो कि हमारे लिये अनुपयोगी होता है। भाषा विज्ञानी को अगर इसपर अच्छी तरह रिसर्च करें तो आवाज़ पर चलने वाले कम्प्यूटर जैसे यन्त्र विकसित किये जा सकते हैं। जो बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं। और शायद आगे चलकर ऐसे कम्प्यूटर विकसित हो जायें जो केवल हमारी आवाज पर काम करने लगें।

फिलहाल आज भी साइंस इस्लामी साइंस से पीछे ही चल रही है। 

नोट : इस तरह की और जानकारियों के लिये पढ़ें मेरी किताब - आधुनिक वैज्ञानिक खोजें जो दरअस्ल इस्लाम की हैं. यह ई बुक निम्न लिंक पर उपलब्ध है :